मुफ्तखोर मेहमान – हिंदी स्टोरी

मुफ्तखोर मेहमान – किसी पर यकीन करने से क्या होता है यह जानना चाहते हो तो इस कहानी को पढ़िए. (Muftkhor Mehman story in hindi)

मुफ्तखोर मेहमान – हिंदी कहानी

एक राज्य था. वहां का एक राजा था. राजा काफी पराक्रमी और ताकतवर था. शरीर पर लगने वाली छोटी मोटी चोटों का उसको आभास भी नहीं होता था.

राजा के शयनकक्ष में एक जूं ने चुपके से अपना साम्राज्य बनाया था. जब भी रात को राजा शयन कक्ष में आता और सो जाता था. तब वह जूं चुपके से आकर राजा का खून पीती थी. जल्दी से वापस छुप जाती थी.

एक दिन उसी शयनकक्ष में एक खटमल भी चोरी छुपे आ जाता है. जूं उसे देखकर वहां से भागने के लिए कहती है. लेकिन खटमल भी होशियार होता है. वह उसे कहता है, मैं तो तुम्हारा मेहमान हूं. आज रात तक तो मैं यहां रुक सकता हूं.

खटमल अपनी चिकनी चुपड़ी बातों में जूं को फसा लेता है. वह उसे खाने के लिए कुछ प्रबंध करें ऐसा कहता है. जूं कहती है मेरे पास तो आज खाने के लिए कुछ भी नहीं है. मैं ही राजा का इंतजार कर रही हूं. जब वह आएंगे तो मैं उनका खून चूस लूंगी.

मित्र की सलाह

खटमल ने भी बहुत दिन से किसी इंसान के खून का स्वाद नहीं लिया था. उसके मन में भी इच्छा प्रकट हुई. उसने कहा, आज तो मैं तुम्हारा मेहमान हु. राजा का खून आज मैं चूसना चाहता हूं.

जूं ने उसे खून चूसने की इजाजत दे दी. थोड़ी देर बाद राजा शयन कक्ष में आकर सो जाता है. कक्ष में चुपके से दोनों बाहर आते हैं. खटमल राजा की ओर जाता है और उसका खून चूसने लगता है.

राजा का खून खटमल को बहुत अच्छा लगता है. जूं कहती है, ज्यादा खून मत चुसो, नहीं तो दर्द से राजा की नींद खुल जाएगी. हम दोनों मारे जाएंगे.

लेकिन दूसरी तरफ खटमल जूं की बातों पर ध्यान न देते हुए तेजी से और खून चूसने लगता है. दर्द के कारण राजा की नींद खुलती है. वह देखता है कि, एक खटमल उसका खून चूस रहा है. राजा उसे पकड़ता उससे पहले वह तकिए के नीचे छुप जाता है.

राजा अपने सेवकों को कहता है कि, तकिए के नीचे से खटमल को ढूंढें और उसे मार गिराए. सेवक तकिया ऊपर करते हैं तो उसे खटमल और जूं दिखाई देती है. राजा सेवकों को दोनों का खात्मा करने के लिए कहता है.

सीख – हमेशा याद रखे की अजनबी व्यक्ति पर ज्यादा भरोसा ना करें.

शेर और सियार

error: Content is protected !!