प्यार क्या है?

आज का आर्टिकल बहुत ही खास है इसलिए नहीं की हम प्यार के बारे में बात कर रहे है, बल्कि इसलिए की हम आज सीखेंगे की असल में प्यार होता क्या है (pyar Kya hai).

प्यार की व्याख्या ढूंढने लग जाओ तो आपको पता चलेगा की हर इंसान के प्यार के मायने अलग है. किसी के लिए प्यार है एक दूसरे के साथ रहना. तो किसी के लिए प्यार यह है की एक दूसरे के बिना रह नहीं पाना.

प्यार वो होता है जो दीखता नहीं पर महसूस जरुर होता है. किसी को किसी के साथ रहकर रखकर प्यार हासिल होता है. तो किसी को बरसों दूर रहके भी प्यार महसूस होता है.

किसी के लिए प्यार है दिनभर उनसे बात करना गुफ्तगू करना तो किसी के लिए प्यार है उनकी यादों में खोकर प्यार को महसूस करना, परवाह करना.

लेकिन असल में प्यार क्या है. क्या आप जानते हो समझते हो. तो बने रहे हमारे साथ आज हम जानेंगे की प्यार होता है तो आखिर क्या होता है.

प्यार क्या होता है (pyar kya hota hai):

अगर आपको किसी को देखकर अच्छा लगा है तो यह प्यार नहीं है. ये तो आपकी Feeling है जो उस वक़्त आपसे बयान होती है. और ये feeling ज्यादा दिन टिक नहीं पाती.

मुझे तो लगता है की आप दिन में कई बार अलग अलग लडकियों के साथ attract होते हो. तो ये आपका प्यार कैसे हो सकता है. प्यार वाली feeling हर किसी के लिए नहीं हो सकती.

मेरी मानो तो आपको प्यार करना नहीं पड़ता. आपको प्यार हो जाता है. आप प्यार में नहीं पड सकते प्यार आपको लिपट लेता है. दूसरी तरफ प्यार वो भी नहीं जो ज़बरदस्ती से पाया जा सके.

प्यार वो भी नहीं  जो की को छिनकर हासिल किया जाए. वो प्यार नहीं वो तो आपका एकतरफा प्यार है जिसमे आपको लगता है की आप उससे प्यार करते हो और वो भी. लेकिन आप बगर उसकी मर्जी से उसे पा रहे हो ये प्यार नहीं Selfishness है.

प्यार का मतलब क्या है? (Meaning of Love):

तो आखिर प्यार क्या है? क्या प्यार Attraction है? क्या pyar सच में attachement है? ये सारे सवाल हर दिन आपके दिमाग में घूमते होंगे. तो मेरी नजर से pyar ki defination सुनो.

मेरी नजर में प्यार वो है जब आप किसी के साथ होते हो तो आप खुद को पूरा महसूस कर पाते हो. आप उस में खुद को पाते हो. आप उसमे खुद की छवि देखते हो.  प्यार का कोई मतलब नहीं प्यार प्यार है मेरे दोस्त. प्यार बेमतलब है.

जिंदगी में हम सिर्फ अपने आप से ही प्यार करते है. लेकिन जब हम किसी ऐसे इंसान के साथ रहते है. तो आपको ये महसूस होता है की, वो इंसान कोई और नहीं वो तो आप जैसा ही है. इसलिए आप उसे आपसे भी ज्यादा चाहने लगते हो.

प्यार मतलब यह नहीं की अब मुझे इसी के साथ रहना है. प्यार का मतलब यह नहीं की वो मुझे नहीं मिली तो मई मर जाऊंगा. प्यार का मतलब यह है की वो इंसान जिस से आपने प्यार किया है वो जहा भी है बस आप उसकी अच्छाई और ख़ुशी की ही कामना करते हो. वो इंसान जहा भी रहे बस खुश रहे आबाद रहे. प्यार वो है जिसमे आप दिल से चाहो की उसे दुनिया की सारी ख़ुशियाँ मिले. उसका आपके जिंदगी में आना और चले जाना ये सब किस्मत का खेल है.

प्यार कब होता है? (pyar kab hota hai)

आपको क्या लगता है की, pyar Kya hai, प्यार कब होता है? मेरी मानो तो प्यार कभी भी हो सकता है. आपको प्यार में पड़ने के लिए एक पल ही काफी है. इसका दूसरा पहलु ये भी है की, आपको प्यार में पड़ने के लिए बरसो भी लग सकते है.

प्यार तब होता है जब आप किसी की पुरे दिल से इज्ज़त करते हो. आज चाहे वो कैसी भी वो आप उसे समझते हो, जानना चाहते हो तो आप उसे चाहने लगे हो. आप उन्हें हर चीज में support करते हो. उन्हें उपर जाते हुए देखकर आपको ख़ुशी महसूस होती है. तो ये प्यार है मेरे दोस्त.

प्यार ना मिले तो क्या करे? (Pyar na Mile to kya Kare) 

एकतरफा प्यार असल में प्यार नहीं है. Temporary feeling को प्यार का नाम देकर कुछ लोगो में प्यार को बदनाम किया है. नही वजह से प्यार में धोखा खा चुके लोगो को प्यार से डर लगता है.

प्यार ना मिले तो तो हमें दर खुद से से नहीं लगता लेकिन लोगो की बातो से लगता है. हम यह भी सोचते है की, अब लोग क्या मेरे बारे क्या कहेंगे.

प्यार में हम आप कितने भी होशियार और समझदार हो पर सामने वाला भी उतना ही समझदार हो यह मुमकिन नहीं. कभी कभी सामने वाला आपकी feeling समझ ही नहीं पा रहा हो तो इसमें ग़लती आपकी नहीं है.

तो इस हालात में करे तो क्या करे. मेरी मानो तो अपने दिल को समझाने की कोशिश करो. उसे कहो की लोग आते है जिंदगी में कुछ जिंदगी भर साथ रहते है. तो कई लोग कुछ ही दिन के मेहमान होते है. कई लोग हमें कुछ सिखा के चले जाते है. कई लोग हमें अच्छी यादे दे जाते है.

जिंदगी में एक बात जान लो पहचान लो की, लोग तुम्हारे जीवन में आएँगे और चले भी जाएंगे लेकिन तुम अपनी राह मत भटको. तुम अपनी मंज़िल मत भूलों. तुम अपना जीना न छोड़ दो. तुम हार ना मानो.

अगर तुम्हे कोई छोड़ के चला गया तो लोगो को परखना सीखो. उन्हें समझाना सीखो. life में हमसफ़र तो सभी को मिलता है. लेकिन हर कोई हमसफ़र नहीं बन पाता.

जिंदगी को Positive होक सोचो, समझो और जीना सीखो मेरे दोस्त.

ऐसी हि नयी जानकारी के लिए  HowDoThis को Facebook, Instagram, Telegram, और Twitter पे follow करना मत भूलना. अगर आपका कोई सवाल है तो हमें comment करके बताए.

Leave a Comment