राजा राम मोहन रॉय के बारे में १० बाते जो आप नहीं जानते हो…

इस Article में हम जानेंगे Raja ram Mohan Roy की १० अनसुनी बाते. 

आज हम बात करने जा रहे है One of the Greatest Hero’s of India. Raja Ram Mohan Roy ने अपने ज्ञान और तेज दिमाग से उस समय में पूरी society को ही चुप करा दिया. जैसा की इनके नाम में ही राजा शब्द है तो इन्होंने अपने नाम के मुताबिक ही अपने जीवन में काम किया.  इन्हें इनके कामों के लिए बहुत सारी उपाधियों से नवाजा गया. जिन में  शामिल है Father of Modern India, Father of Generalism शामिल है.

यह भारत के पहले सुपरस्टार थे यह कहना गलत नहीं होगा.

About Raja ram Mohan Roy Biography, Contribution, Life Journey, Interesting Facts: 

Raja-Ram-Mohan-Roy

  • Raja Ram Mohan Roy का जन्म साल 1772 में बंगाल के राधानगर शहर में ब्राह्मण समाज में हुआ था. इनका जन्म इस समाज में होने के बावजूद भी इन्होने सभी जातियों को साथ लेकर चलते रहे.
  • राजा राम मोहन रॉय अपने समय विद्वानों में गिने जाते है. इनका दिमाग काफी तेज था इन्होने 9 साल तक की उम्र में तक़रीबन १० से भी जादा भाषा सीखी थी.
  • इन्होने 9 साल की आयु में ही शादी की थी और उनकी पहली पत्नी की मौत शादी के बाद कुछ ही महीनो में हो गई थी. इन्होने १० साल की उम्र में दूसरी शादी की और दूसरी पत्नी से इन्हें दो बेटे थे. साल 1828 में इनकी दूसरी पत्नी का निधन हुआ. तब इन्होने तीसरी शादी की थी.
  • One God One World One Energy यह ब्रीदवाक्य की शुरुवात करने वाले राजा राम मोहन रॉय पहले इंसान थे.
  • राजा राम मोहन रॉय ने कम आयु में ही अपना घर छोड़ दिया था. इसके पीछे की वजह अभी तक साफ़ नहीं हुई, लेकिन पढने में आया है की उनकी उनके पिता से मतभेद हुए थे जिसकी बदोलत उन्हें घर छोड़ना पड़ा था.
  • इन्होने अपने जीवन काल में सबसे बड़ा कार्य अगर कोई किया होगा तो वो था सती प्रथा के खिलाफ आवाज उठाकर उसे बंद किया था. यह एक ऐसी प्रथा थी जिस में अगर शादी के बाद किसी औरत के पती का निधन हो जाता है तो उसकी पत्नी को उसके पति के साथ उसी चिता में जलना होगा. यह एक शरीर पे काटा लाने वाली प्रथा थी.
  • इसी के साथ और दो प्रथा भी जोरोशोरो से चल रही थी. जिन में पहली थी 70 से 80 साल के बूढ़े आदमी 10 साल की लड़की से पैसे देकर शादी कर रहे थे. दूसरी थी एक से ज्यादा शादी करना. Raja Ram Mohan Roy इन सबके खिलाफ आवाज उठाई और इन्हें बंद करने में मुख्य भूमिका बजाई थी.
  • इन्हें Father of Indian Generalism बोला जाता था इसके पीछे की वजह है इन्होने लिखी हुई किताबे और ढेर सारे articles जिन मे इन्होने बहुत से मुद्दे में हात डाला और उन्हें ज़माने के सामने जाहिर किया.
  • Raja Ram Mohan Roy जी की मृत्यु 27th September 1833 को England में हुई थी

आज आपने क्या सिखा?

आज हमने आपको Raja Ram Mohan Roy कौन थे और उनके बारे में की पूरी जानकारी देने की कोशिश की है.

ऐसी ही अनोखी जानकारी के लिए हमारे HowDoThis Website और Youtube Channel को subscribe करना मत भूलना. अगर आपका कोई सवाल है तो हमें comment करके बताए. धन्यवाद.

Leave a Comment